पीड़ित के भाई ने डीएम पर लगाया बदसलूकी का आरोप, कहा हमने नहीं कि CBI जांच की मांग

हाथरस कांड पूरे देश में चर्चा का विषय बना हूआ है। विपक्षी पार्टियों और आम जनता के दबाव को देखते हुए योगी आदित्यनाथ ने पूरे मामले की जांच को सीबीआई को देने का फैसला किया है। वहीं दूसरी तरफ देखा जाए तो हाथरस के गैंगरेप के मामले को लेकर डीएम प्रवीण कुमार पर काफी सवाल खड़े हो रहें हैं।

पीड़िता के परिवार ने डीएम पर धमकी देने का आरोप लगाया है। बेचारे युवती के भाई का कहना है कि पता नहीं मेरे परिवार ने ऐसा कौन सा गुनाह किया है कि ऐसा सुलूक किया जा रहा है हमारे परिवार के साथ उन लोंगों ने डीएम को पद से हटाने की मांग की है। इन सबके बीच पीड़ित के परिवार ने ये भी कह दिया है कि वो अस्थि विर्सजन नहीं करेंगें क्योंकि उन्हें नहीं पता कि ये उसकी ही हैं या नहीं।

पीड़ित के भाई ने सबसे पहले यह सवाल उठाया कि परिवार ने तो कभी सीबीआई जाँच की मांग नहीं कि हम सिर्फ न्यायिक जांच की मांग कर रहें हैं। भाई ने कहा कि हम बस इतना चाह रहें हैं कि सुप्रिम कोर्ट के किसी जज कि निगरानी में निष्पक्ष जांच की जाए। जो भी जांच करे अच्छे से करें। हम खुश तभी होंगें जब हमारे सवालों के जवाब मिलेंगें। यहां तक हमारी मर्जी के शव को लाया गया और हमें शव को दिखाया भी नहीं गया कम से कम दिखा तो देते एक बार शव को और शव को पेट्रोल से क्यों जलाया गया है इतनी बुरी तरह से अंतिम संस्कार करता है कोई।

प्रियंका गांधी और राहुल गांधी भी हाथरस पहुंचे और पीड़िता के परिवार से उन्होंने बन्द कमरे में मुलाकात की और प्रियंका गांधी ने पीड़िता कि माँ को गले लगाते हुए सांत्वना दी औऱ करीब 1 घंटे तक पीड़िता के परिवार के साथ बात की प्रियंका गांधी ने कहा कि हम अन्याय के खिलाफ लड़ेगें परिवार आखिरी बार अपनी बच्ची को देख तक नहीं पाया योगी आदित्यनाथ को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। प्रियंका गांधी ने कहा कि जब तक पीड़ित के परिवार को न्याय नहीं मिला जाता तब तक हम लड़ते रहेंगें। क्योंकि परिवार न्यायिक जांच चाहता है। इसी के साथ राहुल गांधी ने परिवार को राहत राशि का चेक भी सौंपा। प्रियंका गांधी को सिर्फ 5 लोगों के साथ हाथरस जाने की अनुमति कुछ शर्तों पर उत्तर प्रदेश सरकार ने दी थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *