पीड़ित के परिवार से मिलने हाथरस जा रहे राहुल गाँधी को पुलिस ने की धक्कामुक्की

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में दलित बिटिया के साथ हुआ दुष्कर्म का मामला आज काफी बढ़ गया है। इसको लेकर राजनीति में भी उठापटक चल रही है।

ये खबर बहुत चर्चा में थी की राहुल और प्रियंका गाँधी पीड़िता के परिवार से मिलने जाएंगें और परिजनों से मुलाकात करेंगें। लेकिन जैसे ही ये बात फैली तो हाथरस से नोयडा-गाजियाबाद का पुलिस प्रशासन सर्तक हो गया और दिल्ली से यूपी जाने वाली सभी सीमाओं पर बैरीकेडिंग कर दि गई।

प्रियंका गाँधी को हाथरस जाने से रोके जाने को लेकर प्रियंका गाँधी ने ट्वीट किया और लिखा- हाथरस जाने से हमें रोका। राहुल जी के साथ हम सब पैदल निकले तो बारबार हमें रोका गया, बर्बर ढंग से लाठियाँ चलाईं। कई कार्यकर्ता घायल हैं। मगर हमारा इरादा पक्का है। एक अहंकारी सरकार की लाठियाँ हमें रोक नहीं सकतीं। काश यही लाठियाँ, यही पुलिस हाथरस की दलित बेटी की रक्षा में खड़ी होती।

राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी को रोका गया जब ग्रेटर नोयडा में रोक दिया गया तो राहुल और प्रियंका गाँधी पैदल ही पीड़ित के परिवार से मिलने के लिए निकल पड़े। दिल्ली और नोयडा बार्डर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन भी किया। लेकिन पुलिस ने राहुल गाँधी को आगे जाने से मना कर दिया। तब राहुल गाँधी बोले की मैं अकेले ही जाना चाह रहा हूँ।

इस पर पुलिस ने राहुल गाँधी से कहा की हम आपको अरेस्ट कर रहें हैं। औऱ कहा आप धारा 188 के तहत आप भीड़ के साथ नहीं जा सकते। तब राहुल गाँधी ने पुलिस से पूछा की पीड़ित के परिवार से हम क्यों नहीं मिल सकते।

प्रियंका गाँधी ने कहा कि हाथरस में अन्याय हो रहा है। हम परिवार की जांच से संतुष्ट नहीं हैं। यहाँ तक प्रियंका गाँधी ने योगी सरकार पर पीड़ित के परिवार को धमकी देने का आरोप लगाया है। प्रियंका गाँधी ने कहा उत्तर प्रदेश सरकार परिवार को चुप कराना चाहती है। वहीं गाँधी जयंती पर राहुल गाँधी ने ट्वीट किया और लिखा कि- मैं दुनिया में किसी से नहीं डरूंगा… मैं किसी के अन्याय के समक्ष झुकूं नहीं, मैं असत्य को सत्य से जीतूं और असत्य का विरोध करते हुए मैं सभी कष्टों को सह सकूं।’

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *