चीन को एलएसी पर हालात का सामना करने की चुनौती देगा भारत

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के द्वारा की गई चालबाजीयों को एक बार फिर से सेना के जवानों ने नाकाम कर दिया। चार दिन के अन्दर चीन ने तीन बार सीमा में घुसपैठ की कोशिश की लेकिन भारत के बढ़े हुए तेवर को देखते हुए चीनी सैनिक को वहां से वापस लौटना पड़ा। यही कारण है कि (एलएसी) पर हालात तनावपूर्ण हैं।

 

चीन की तरफ से चल रही चालबाजियों पर अमेरिका ने भी सख्त रुख अपनाया है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि चीनी सेना के ऊपर पूरी तरह से निगरानी बनाए रखे हैं। और साथ ही शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद कर रहें हैं।

 

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था की बीजिंग अपने पड़ोसी देशों के साथ-साथ अन्य देशों से भी लगातार उलझने की कोशिश कर रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि ताइवान स्ट्रेट से शिनजियांग साउथ चाइना सी से हिमालय तक और साइबर स्पेस से लेकर इंटल ऑर्गनाइजेशन तक हम चीनी कम्युनिस्ट के साथ काम करते हैं।

 

जो अपने ही लोगों को दबाना चाहती है और पड़ोसियों को धमकाना चाहती है। चीन की तरफ से जो उकसाने की कोशिश हो रही है उसे रोकने का बस एक ही तरीका है, की हमें बीजिंग के खिलाफ खड़े होना होगा। गौर करने वाली बात है कि 29 अगस्त से चीन ने अब तक तीन बार एलएसी पर घुसपैठ करने की कोशिश की है जिसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया है।

 

सूत्रों के मुताबिक लद्दाख से जुड़े एलएसी पर शुरु विवाद पर चीन ने दोनों पक्षों के बीच जो सहमति हुई थी उसका सम्मान नहीं किया। चीन की निगाहें एलएसी से जुड़े उन विवादित इलाकों पर थी जिस पर दोनों देशों के बीच नो मेंस जोन बनाने पर सहमति दी। चीन की मंशा बातचीत के दौरान चीन ऐसे इलाकों पर कब्जा करना चाहता था। चीन के इरादों को भांपते हुए भारत अहम चोटियों पर अपनी स्थिति को मजबूत कर लिय़ा है। भारत के द्वारा दिए गए जवाबी पलटवार से चीन बहुत बौखलाया हुआ है।

 

बनाई गयी नई रणनीति के तहत भारत ने चीन को ये बता दिया की भारत भी जैसे को तैसा अंदाज में जवाब देने का संदेश दिया है। विदेश मंत्रीयों की बैठक से भारत किसी भी तरीके का परहेज नहीं बरतेगा। और सैन्य स्तर की वार्ता से भारत पीछे भी नहीं हटेगा। ऐसी बातचीत से पहले भारत झुकने या नरम पड़ने की बजाए हर स्थिति में सामना करने का संदेश देगा।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *