मेडिकल कॉजेल की बात करने वाला मंदिर बनवाने लगा मुबारक हो आपने आखिलेश को बदल दिया

AKHILESH-VISHNU- TEMPLE-  लैपटॉप की बात करने वाला. मोट्रो की बात करने वाला. सड़की की बात करने वाला. टेक्नॉलिजी की बात करने वाला. हवाई अड्डों की बात करने वाला. बस अड्डों की बात करने वाला. अब भगवान की बात कर रहा है. धर्म की बात कर रहा है. मंदिर की बात कर रहा है. मजार की बात करने लगा है. टीके की बात करने लगा है.  टोपी की बात करने लगा है. पूजा की बात करने लगा है. व्रत की बात करने लगा है.

-----

 

 

ऐसा नहीं है कि अखिलेश यावद हिंदू होते हुए कभी मंदिर नहीं जाते थे या उसकी धर्म पत्नी डिंपल कभी पूजा नहीं करती थीं. करती थीं बस दिखावा नहीं हो पाया जो बाद में शुरू किया. कई बार तस्वीरें सामने आईं लेकिन उत्तर प्रदेश में विकास वाले नौजवान को जनता ने 2017 में नकार दिया. यूपी की जनता को मंदिर चहिए तो अखिलेश उसी राह पर निकल चुके हैं.

 

बिहड़ के पास इटावा में लॉइन सफारी के आसपास जहां अखिलेश ने भव्य ने विष्णु भगवान का मंदिर बनाने की घोषणा की है वहां.. मंदिर की जगह अस्पताल बन जाए. अगर मंदिर की जगह फैक्ट्री  लग जाए. अगर मंदिर की जगह मेडिकल कॉलेज खुल जाए. अगर मंदिर की जगह कारखाना लग जाए. अगर मंदिर की जगह कुछ ऐसा हो जाए जिससे लोगों का भला हो जाए नौकरी  मिल जाए रोजगार मिल जाए तो क्या सही नहीं होगा. लेकिन आप लोगों को उत्तर प्रदेश के लोगों को मंदिर चाहिए मस्जिद चाहिए.  सबने मिलकर अखिलेश को धार्मिक बना दिया.

 

अब सब खुश हैं. अखिलेश खेमे के हिंदूवादी खुुश हो जाएंगे कि यादवों को धर्म की रक्षा करने वाला योद्धा मिल चुका है. लेकिन अखिलेश खुद को बदलकर बीजेपी की भाषा अपनाकर उत्तर प्रदेश के साथ न्याय नहीं कर पाएंगे. ऑस्ट्रेलिया से पढ़कर आया नौजवान भी हाथ में घंटी उठा लेगा तो विकास की लगाम किन हाथों से पकड़ी जाएगी.

तस्वीर सौजन्य- google
तस्वीर सौजन्य- google

मंदिर बनवाकर क्या होगा.  नाम  होगा. मंदिर के सामने दो चार पकौड़े बनाने वाले आ जाएंगे. 100-200 भिखारी बैठ जाएंगे. दुखियारे भगवान के आगे माथ टेकेंगे. हालांकि अखिलेश के मंदिर बनाने के इस ऐलान से बढ़ बहुत कुछ गया है. हिंदुओं के बीच कद बढ़ गया है. राजनीतिक शत्रुओं में बेचैनी बढ़ गई है. हिंदुवादियों का विश्वास अखिलेश में बढ़ गया है. जीतने की संभावनाएं बढ़ गई हैं.

 

बीजेपी को बीजेपी की भाषा में जवाब देने के चक्कर में आधुनिक सोच वाला नेता दूर जा रहा है. हम देख रहे हैं धार्मिक और जिताऊ राजनीति उसे घसीटती हुए ले जा रही है.  यूपी वालों खुश हो जाओ तुमने अखिलेश को बदल दिया.

तस्वीर सौजन्य- google
तस्वीर सौजन्य- google