अखिलेश के खिलाफ रची साजिश हूई नाकाम

राम मंदिर निर्माण को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के नाम से एक ट्वीट वायरल हो रहा है। जिसमें लिखा है कि अगर हमारी सरकार होती तो मैं नेता जी के नक्शे कदम पर चलता, चाहे जितनी जाने जाती लेकिन कभी राम मंदिर नहीं बनने देता।

 

लेकिन जब इसकी जांच करवायी गई तब सामने आया की अखिलेश यादव के ट्वीटर हैंडल से ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया गया है। औऱ ना ही अखिलेश यादव ने कोई ऐसा बयान दिया है।

 

जो ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है उसे एडिट करके बनाया गया है, और उसे अखिलेश यादव के नाम से वायरल किया जा रहा है। अखिलेश यादव ने एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था की राम मंदिर को लेकर समाजवादी पार्टी और भाजपा सरकार का एजेंडा एक ही है, और संविधान के दायरे में और शांतिपूर्ण तरीके से राम मंदिर का निर्माण चाहते हैं।

 

सोशल मीडिया पर जिस यूजर ने फर्जी ट्वीट को शेयर किया वह उत्तर प्रदेश के कानपुर का निवासी है। इस फर्जी ट्वीट को लेकर समाजवादी पार्टी ने ट्वीट भी किया है, जिसमें लिखा है।

 

BJP सरकार के इशारे पर चल रहा सोशल मीडिया पर झूठ के जरिए नफरत फैलाने का व्यापार पुराना है! सत्ता की भूख में ये किसी भी हद तक जा सकते हैं फिर चाहे इसका परिणाम समाज में सद्भावना ही ना मिटा दें! सपा अध्यक्ष का फर्जी ट्वीट वायरल करना सत्ता संरक्षित करतूत है। कार्रवाई करे साइबर सेल

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *